Skip to main content

मुद्रा बैंकिंग एवं अंतर्राष्ट्रीय व्यापार | Mudra Banking and Antarrashtriya Vyapar-(TEXT BOOK)- By T.T. Sethi

328.00704.00

Clear selection

मुद्रा बैंकिंग एवं अंतर्राष्ट्रीय व्यापार | Mudra Banking and antarrashtreey vyaapaar- , By – Dr. T.T. Sethi, ISBN Code –

 

इस पुस्तक की विषय सूची इस प्रकार है-
प्रथम खण्ड: मूल अवधारणाएँ
1. मुद्रा की परिभाषा एवं कार्य

2. मुद्रा का वर्गीकरण

3. मुद्रा का महत्व

4. मुद्रामान

5. ग्रेषम का नियम

6. पत्र-मुद्रमान
द्वितीय खण्ड: मुद्रा का मूल्य तथा मुद्रा-स्फीति
7. मुद्रा की पूर्ति एवं माँग

8. मुद्रा-मूल्य की माप-निर्देषांक

9. मुद्रा परिमाण सिद्धान्त-नकद भुगतान तथा नकद-षेष दृष्टिकोण

10. मुद्रा-मूल्य का आय सिद्धान्त अथवा बचत एवं निवेष सिद्धान्त

11. मुद्रा-स्फीति, अवस्फीति एवं संस्फीति

12. मुद्रा-स्फीति के सैद्धान्तिक आधार
तृतीय खण्ड: वाणिज्यिक बैंकिंग
13. बैंक-उनके कार्य तथा विविध रूप

14. साख एवं साख-निर्माण

15. बैंक की कार्य-प्रणाली तथा स्थिति-विवरण

16. भारत में वाणिज्यिक बैंकिंग का विकास

17. भारत में वाणिज्यिक बैंकिंग की गतिविधियाँ

18. बैंकिंग व्यवस्था में सुधार
चतुर्थ खण्ड: केन्द्रीय बैंकिंग
19. केन्द्रीय बैंकिंग

20. साख-नियन्त्रण की रीतियाँ

21. भारतीय रिर्जव बैंक

22. भारतीय रिजर्व बैंक की साख-नियन्त्रण नीति

23. मौद्रिक नीति
पंचम् खण्ड: मुद्रा-बाजार
24. भारतीय मुद्रा-बाजार

25. वित्तीय संस्थाएँ
षष्ठम् खण्ड: विदेषी विनिमय
26. विदेषी विनिमय एवं विनिमय-दर

27. विनिमय-नियन्त्रण

28. भुगतान-सन्तुलन

29. अन्तर्राष्ट्रीय मुद्रा-कोष

30. विष्व बैंक एवं अन्य अन्तर्राष्ट्रीय वित्तीय संस्थाएँ

31. अन्तर्राष्ट्रीय व्यापार के सिद्धान्त

Description

मुद्रा बैंकिंग एवं अंतर्राष्ट्रीय व्यापार | Mudra Banking and antarrashtreey vyaapaar- , By – Dr. T.T. Sethi, ISBN Code –

 

इस पुस्तक की विषय सूची इस प्रकार है-
प्रथम खण्ड: मूल अवधारणाएँ
1. मुद्रा की परिभाषा एवं कार्य

2. मुद्रा का वर्गीकरण

3. मुद्रा का महत्व

4. मुद्रामान

5. ग्रेषम का नियम

6. पत्र-मुद्रमान
द्वितीय खण्ड: मुद्रा का मूल्य तथा मुद्रा-स्फीति
7. मुद्रा की पूर्ति एवं माँग

8. मुद्रा-मूल्य की माप-निर्देषांक

9. मुद्रा परिमाण सिद्धान्त-नकद भुगतान तथा नकद-षेष दृष्टिकोण

10. मुद्रा-मूल्य का आय सिद्धान्त अथवा बचत एवं निवेष सिद्धान्त

11. मुद्रा-स्फीति, अवस्फीति एवं संस्फीति

12. मुद्रा-स्फीति के सैद्धान्तिक आधार
तृतीय खण्ड: वाणिज्यिक बैंकिंग
13. बैंक-उनके कार्य तथा विविध रूप

14. साख एवं साख-निर्माण

15. बैंक की कार्य-प्रणाली तथा स्थिति-विवरण

16. भारत में वाणिज्यिक बैंकिंग का विकास

17. भारत में वाणिज्यिक बैंकिंग की गतिविधियाँ

18. बैंकिंग व्यवस्था में सुधार
चतुर्थ खण्ड: केन्द्रीय बैंकिंग
19. केन्द्रीय बैंकिंग

20. साख-नियन्त्रण की रीतियाँ

21. भारतीय रिर्जव बैंक

22. भारतीय रिजर्व बैंक की साख-नियन्त्रण नीति

23. मौद्रिक नीति
पंचम् खण्ड: मुद्रा-बाजार
24. भारतीय मुद्रा-बाजार

25. वित्तीय संस्थाएँ
षष्ठम् खण्ड: विदेषी विनिमय
26. विदेषी विनिमय एवं विनिमय-दर

27. विनिमय-नियन्त्रण

28. भुगतान-सन्तुलन

29. अन्तर्राष्ट्रीय मुद्रा-कोष

30. विष्व बैंक एवं अन्य अन्तर्राष्ट्रीय वित्तीय संस्थाएँ

31. अन्तर्राष्ट्रीय व्यापार के सिद्धान्त

Additional information

Weight 0.7 kg
Dimensions 24 × 16 × 2 cm
Cover Type

Hard Bound Edition, Paper Back Edition

Reviews

There are no reviews yet.

Be the first to review “मुद्रा बैंकिंग एवं अंतर्राष्ट्रीय व्यापार | Mudra Banking and Antarrashtriya Vyapar-(TEXT BOOK)- By T.T. Sethi”

Your email address will not be published.