Skip to main content

अंतर्राष्ट्रीय अर्थशास्त्र | Antarrashtriya Arthashastra -(TEXT BOOK) Binding – Hard Bound Edition- By Agarwal and Barla

888.00

अंतर्राष्ट्रीय अर्थशास्त्र |  Antarraashtriya Arthashaastra – , By – Barla & Agarwal, ISBN Code – 978-93-89172-23-2

Binding – Hard Bound Edition

इस पुस्तक की विषय सूची इस प्रकार है-
1. अन्तर्राष्ट्रीय अर्थषास्त्र का अर्थ, प्रकृति एवं महत्व

2. अन्तर्राष्ट्रीय एवं अन्तक्र्षेत्रीय व्यापार के प्रमुख लक्षण

3. अन्तर्राष्ट्रीय व्यापार साम्य: कुछ विष्लेषणात्मक उपकरण

4. अन्तर्राष्ट्रीय श्रम-विभाजन एवं विषिष्टीकरण

5. अन्तर्राष्ट्रीय व्यापार का तुलनात्मक लागत सिद्धान्त

6. अन्तर्राष्ट्रीय व्यापार का हैक्षर-ओहलिन सिद्धान्त

7. साधन गहनता विलोम: स्टोप्लर-सैम्युलसन तथा रिब्जिन्स्की प्रमेय

8. व्यापार की शर्तों के सिद्धान्त

9. व्यापार गुणक की अवधारणा

10. विनिमय-दर निर्धारण के सिद्धान्त

11. अन्तर्राष्ट्रीय व्यापार के लाभ एवं हानियाँ

12. विनिमय-नियन्त्रण

13. भुगतान-सन्तुलन

14. अन्तर्राष्ट्रीय वाणिज्यिक नीतियाँ

15. स्वतन्त्र व्यापार तथा संरक्षण

16. संरक्षण की विधियाँ

17. अन्तर्राष्ट्रीय सरलता की समस्या

18. अन्तर्राष्ट्रीय मुद्रा-कोष

19. विष्व बैंक एवं सम्बद्ध संस्थाएँ

20. प्रषुल्क-दरों एवं व्यापार पर सामान्य समझौता

21. विष्व व्यापार संगठन

22. वैष्विक व्यापार एवं सम्बद्ध-विषय

23. बौद्धिक सम्पदा अधिकार

24. संयुक्त राष्ट्र संघ का व्यापार एवं आर्थिक विकास पर अधिवेषन (अंक्टाड)

25. क्षेत्रीय आर्थिक सहयोग

26. क्षेत्रीय व्यापार समझौते

27. विकासषील देषों को प्राप्त विदेषी सहायता

28. अवमूल्यन

29. भारत का विदेषी व्यापार

30. निर्यात तथा आयात नीति

31. विदेषी व्यापार के विकास हेतु संस्थागत प्रबन्ध

32. भारत की भुगतान-सन्तुलन स्थिति

33. भारत में विदेषी निवेष

34. भारत एवं अन्तर्राष्ट्रीय मौद्रिक सुधार

Description

अंतर्राष्ट्रीय अर्थशास्त्र |  Antarraashtriya Arthashaastra – , By – Barla & Agarwal, ISBN Code – 978-93-89172-23-2

Binding – Hard Bound Edition

इस पुस्तक की विषय सूची इस प्रकार है-
1. अन्तर्राष्ट्रीय अर्थषास्त्र का अर्थ, प्रकृति एवं महत्व

2. अन्तर्राष्ट्रीय एवं अन्तक्र्षेत्रीय व्यापार के प्रमुख लक्षण

3. अन्तर्राष्ट्रीय व्यापार साम्य: कुछ विष्लेषणात्मक उपकरण

4. अन्तर्राष्ट्रीय श्रम-विभाजन एवं विषिष्टीकरण

5. अन्तर्राष्ट्रीय व्यापार का तुलनात्मक लागत सिद्धान्त

6. अन्तर्राष्ट्रीय व्यापार का हैक्षर-ओहलिन सिद्धान्त

7. साधन गहनता विलोम: स्टोप्लर-सैम्युलसन तथा रिब्जिन्स्की प्रमेय

8. व्यापार की शर्तों के सिद्धान्त

9. व्यापार गुणक की अवधारणा

10. विनिमय-दर निर्धारण के सिद्धान्त

11. अन्तर्राष्ट्रीय व्यापार के लाभ एवं हानियाँ

12. विनिमय-नियन्त्रण

13. भुगतान-सन्तुलन

14. अन्तर्राष्ट्रीय वाणिज्यिक नीतियाँ

15. स्वतन्त्र व्यापार तथा संरक्षण

16. संरक्षण की विधियाँ

17. अन्तर्राष्ट्रीय सरलता की समस्या

18. अन्तर्राष्ट्रीय मुद्रा-कोष

19. विष्व बैंक एवं सम्बद्ध संस्थाएँ

20. प्रषुल्क-दरों एवं व्यापार पर सामान्य समझौता

21. विष्व व्यापार संगठन

22. वैष्विक व्यापार एवं सम्बद्ध-विषय

23. बौद्धिक सम्पदा अधिकार

24. संयुक्त राष्ट्र संघ का व्यापार एवं आर्थिक विकास पर अधिवेषन (अंक्टाड)

25. क्षेत्रीय आर्थिक सहयोग

26. क्षेत्रीय व्यापार समझौते

27. विकासषील देषों को प्राप्त विदेषी सहायता

28. अवमूल्यन

29. भारत का विदेषी व्यापार

30. निर्यात तथा आयात नीति

31. विदेषी व्यापार के विकास हेतु संस्थागत प्रबन्ध

32. भारत की भुगतान-सन्तुलन स्थिति

33. भारत में विदेषी निवेष

34. भारत एवं अन्तर्राष्ट्रीय मौद्रिक सुधार

Additional information

Cover Type

Hard Bound Edition, Paper Back Edition

Reviews

There are no reviews yet.

Be the first to review “अंतर्राष्ट्रीय अर्थशास्त्र | Antarrashtriya Arthashastra -(TEXT BOOK) Binding – Hard Bound Edition- By Agarwal and Barla”

Your email address will not be published.